13 Jan 2021

सूरजमुखी (सनफ्लॉवर) का तेल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक क्यों है?

सूरजमुखी का तेल सूरजमुखी फूल के बीजों से बनाया जाता है। यह नियमितरूप से रेस्तरां, भोजनालयों तथा घर पर खाना बनाने और तलने के लिए उपयोग किया जाता है। यह आमतौर पर खाने के लिए तैयार प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों में इस्तेमाल किया जाता है।

सूरजमुखी के तेल में मुख्य तौर पर मोनोअनसैच्युरेटेड एवं पॉलीअनसैच्युरेटेड, फैटी ऐसिड से युक्त होता है। मोनोअनसैच्युरेटेड फैटी ऐसिड ओमेगा-९ है। पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी ऐसिड १:७१ के अनुपात में ओमेगा-३ और ओमेगा-६ प्रकार के होते हैं। (१ ओमेगा-३ से ७१ ओमेगा-६s)।

ओमेगा ३ और ६ फैटी ऐसिड को जरूरी आवश्यक (इसेन्शिअल) फैटी ऐसिड भी कहा जाता है क्योंकि यह हमारे शरीर के लिए जरूरी होते हैं, मगर इन्हें बनाने के लिए हमारे शरीर में एन्ज़ाइम नहीं होते; इसलिए इन्हें अपने खाने से हमें प्राप्त करना होता है।

हालांकि ये दोनों फैटी ऐसिड (ओमेगा-३ और ओमेगा-६) आवश्यक हैं, लेकिन ये उचित अनुपात में लेने चाहिएं। विशेषज्ञों के अनुसार (ओमेगा-३:ओमेगा-६ का आदर्श अनुपात १:४ होना चाहिए) अर्थात प्रत्येक चार ओमेगा-६ के लिए कम से कम एक ओमेगा-३ होना चाहिए।

परंतु कुछ तेलों में सूरजमुखी तेल की तरह ओमेगा-६ की मात्रा ओमेगा-३ से बहुत ज्यादा है। सूरजमुखी तेल में ओमेगा-३ से ओमेगा-६ का अनुपात १:७१, ओमेगा-३ की तुलना में ओमेगा-६ की यह अधिकता हमारे शरीर में इन्फ्लमेशन के विकास के लिए प्रमुखरूप से दोषी है, जिसके स्वास्थ्य पर कई प्रतिकूल परिणाम होते हैं।

आगे बढ़ने से पहले, हमें समझना होगा कि इन्फ्लमेशन क्या है।

इन्फ्लमेशन (सूजन और जलन) चोट और संक्रमण के लिए हमारे शरीर की प्रतिक्रिया है। यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा किया जाता है। यह हमारे शरीर को क्षतिग्रस्त ऊतक को ठीक करने और मरम्मत करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को संकेत देने का तरीका है और साथ ही विदेशी आक्रमणकारियों जैसे वायरस और बैक्टीरिया जैसे सूक्ष्मजीवों से भी बचाव करता है। जब यह इन्फ्लमेशन तीव्र और अल्पकालिक होती है, तो यह हमारे शरीर को हमलावर रोगजनकों के कारण होने वाली क्षति और चोट से उबरने में मदद करता है। हालांकि, अगर भड़काऊ प्रक्रिया बहुत लंबे समय तक चलती है या यदि यह सूजन उन जगहों पर होती है जहां इसकी आवश्यकता नहीं है, तो यह समस्याग्रस्त हो सकता है। यह हमारी कोशिकाओं और ऊतकों को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है। इस प्रकार के लंबे समय तक, निरंतर सूजन को पुरानी (क्रॉनिक) इन्फ्लमेशन कहा जाता है। यह हमारे शरीर पर दीर्घकालिक प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है और विभिन्न रोगों के विकास में योगदान कर सकता है। सनफ्लॉवर तेल में ओमेगा-३ की तुलना में ओमेगा-६ की मात्रा बहुत अधिक है (ओमेगा-३ और ओमेगा-६ के बीच का अनुपात १:७१ है) जोकि प्रो-इंफ्लेमेटरी केमिकल्स/टॉक्सिन्स (प्रोस्टाग्लैंडिंस और ल्यूकोट्रिएन्स) के स्राव के लिए जिम्मेदार है। ये केमिकल्स/टॉक्सिन्स हमारे शरीर के कई ऊतकों और अंगों के भीतर अत्यधिक और अनसुलझे सूजन के विकास के लिए जिम्मेदार हैं। यह हमारे शरीर को काफी नुकसान पहुंचा सकता है और विभिन्न रोगों और विकारों के रूप में प्रकट हो सकता है:

• इन्फ्लमेशन हमारे रक्त वाहिकाओं को कठोर (स्टिफ) बना सकती है या उनके लुमेन के भीतर एक पट्टिका (प्लाक) बना सकती है। यह लुमेन को संकीर्ण करता है और इसके माध्यम से बहने वाले रक्त प्रवाह के प्रतिरोध को बढ़ाता है, जिससे निम्नलिखित खतरा बढ़ सकता है:

१. उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप) दिल का दौरा
२. स्ट्रोक

• इंसुलिन एक हार्मोन है जो हमारे शरीर में चीनी के प्रभावी चयापचय और उपयोग के लिए आवश्यक है। अत्यधिक ओमेगा-६ वसा के सेवन से जुड़ी निरंतर इन्फ्लमेशन इंसुलिन हार्मोन की कार्रवाई को कमजोर करती है (इंसुलिन प्रतिरोध विकसित करती है)। इससे चीनी के चयापचय में गड़बड़ी होती है, जिससे इसका खतरा बढ़ जाता है:

१. मधुमेह मेलिटस।
• आहार में अत्यधिक मात्रा में ओमेगा-६ फैटी ऐसिड एक निरंतर (पुरानी) इन्फ्लमेशन विकसित करता है जो हार्मोन्स, इंसुलिन और लेप्टिन के कार्यों के प्रतिरोध को बढ़ावा देता है। यह हमारे शरीर में वसा जमाव की अधिकता को प्रोत्साहित करता है। इसके अलावा, यह वसा के प्रभावी चयापचय में कमी (फैट बर्निंग में कमी) करता है जिससे अंततः

१. वजन बढ़ना और मोटापा
२. यकृत जैसे आंतरिक अंगों में और आसपास वसा जमाव। यह बहुत हानिकारक है।
३. खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL-कोलेस्ट्रॉल) के स्तर में वृद्धि होती है

• इन्फ्लमेशन के कारण त्यागे हुए टॉक्सिन्स (विषाक्त पदार्थ) श्वसन पथ के भीतर स्राव को बढ़ा सकते हैं। यह वायुमार्ग की सूजन और ऐंठन भी विकसित कर सकते हैं जिससे व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी होती है। यह अस्थमा से पीड़ित होने का खतरा बढ़ाते हैं।

• ये भड़काऊ टॉक्सिन्स हमारी कोशिकाओं में डीएनए को नुकसान पहुंचा सकते हैं और कोशिकाओं और ऊतकों के असामान्य और अनियंत्रित विकास के प्रमुख स्वस्थ कोशिकीय चयापचय को अशांत कर सकते हैं। यह कुछ कैंसर के खतरे को बढ़ाता है जैसे:

१. स्तन कैंसर
२. प्रोस्टेट कैंसर
३. बड़ी आंत का कैंसर (कोलोरेक्टल कैंसर)

• यह भड़काऊ टॉक्सिन्स हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को अशांत कर सकते हैं, जिससे यह अतिरंजित हो जाता है और शरीर के विभिन्न भागों में हमारे ऊतकों पर हमला करते हैं। यह कई ऑटोइम्यून और सूजन संबंधी बीमारियों के विकास में परिणाम कर सकते हैं जैसे:

१. संधिवात गठिया (जोड़ों का दर्द, सूजन और विकृति)
२. सिस्टेमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस (एसएलई)

* सामान्य कार्य में उथलपुथल और प्रतिरक्षा प्रणाली की आक्रामकता पर विभिन्न प्रकार के ऐलर्जीस्‌ से पीड़ित होने का खतरा भी बढ़ सकता है

* ओमेगा-६ फैटी ऐसिड की अतिरिक्त आहार खपत हड्डियों के खनिज घनत्व (ऑस्टियोपोरोसिस) में कमी के साथ जुड़ी हुई है जो हड्डियों को नाजुक और कमजोर बनाती है। यह लगातार होनेवाले अस्थि-भंग (फ्रैक्चर्स) के खतरों को बढ़ा सकता है।

* ओमेगा-६ के अधिक सेवन के कारण निकलने वाले सूजन वाले विषाक्त पदार्थों से लैक्रिमल ग्रंथि की दुष्क्रिया हो सकती है। यह आंसू उत्पादन को कम करता है, जो आंखों में लगातार सूखापन, खुजली, आँखों की जलन के रूप में प्रकट होता है। यह हमारी आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है।

* ओमेगा-६ वसा में उच्च तेलों की खपत से जुड़े भड़काऊ विषाक्त पदार्थ मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर (न्यूरोलॉजिकल कोशिकाओं के बीच संकेत ले जानेवाले रसायन) के सामान्य स्राव और कार्य को अशांत कर सकते हैं। ये विषाक्त पदार्थ मस्तिष्क की कोशिकाओं को भी सीधे नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिससे इसका खतरा बढ़ जाता है:

१. डिमेंशिया (स्मृति हानि)
२. अल्जाइमर रोग
३. अवसाद

चूंकि ओमेगा-३ फैटी ऐसिड के संबंध में अतिरिक्त ओमेगा-६ फैटी ऐसिड की खपत पूरे शरीर के भीतर एक इन्फ्लमेशन पैदा कर सकते हैं, जिससे विभिन्न अंगों और प्रणालियों को नुकसान होता है। खाना बनाने में ओमेगा-६ की बहुत अधिक मात्रा और बहुत कम ओमेगा-३ की मात्रा की वजह से सूरजमुखी तेल जैसे तेलों से बचना बेहतर होता है।

एक विकल्प के रूप में, हम ओमेगा-३: ओमेगा-६ (१:४ के आदर्श अनुपात के करीब के रूप में) के संतुलित अनुपात वाले तेलों का चयन कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर, कुसुम तेल (अनुपात १:१४) या जैतून का तेल (अनुपात १:९) आदि (विभिन्न तेलों में ओमेगा-३ और ओमेगा-६ का प्रतिशत बताते हुए आरेख का संदर्भ लें)

उन तेलों का उपयोग करना जिसमें ओमेगा-६ वसा की पर्याप्त मात्रा होती है, जो ओमेगा-६ (संतुलित ओमेगा-३: ओमेगा-६ अनुपात) के संबंध में मौजूद होता है, इसका सुरक्षात्मक प्रभाव पड़ता है, जो ओमेगा-६ वसा की अधिकता के कारण हो सकता है।

यह ध्यान में रखना जरुरी है कि विभिन्न तैयार खाद्य पदार्थों या तले हुए खाद्य पदार्थ खाने के लिए जो हम आमतौर पर बाहर मिलते हैं उनमें उच्च मात्रा में सूरजमुखी तेल होता है। इस प्रकार, ऐसे भोजन से बचना बेहतर है। ओमेगा-६ वसा की अधिकता के हानिकारक प्रभावों से हमारे स्वास्थ्य की रक्षा के लिए होटलों में भोजन करते समय उपयोग किए जाने वाले तेल के बारे में हमें जिज्ञासु होना चाहिए।

Leave a Reply